Skip to main content

Posts

डायनासोर का अंत और इंसानो की उत्पति कैसे हुई ? The End Of Dinosaurs ! Evolution of Human

डायनासोर का अंत और इंसानो की उत्पति कैसे हुई ?आज से 6.50 करोड़ साल पहले एक बड़ा Asteroid पृथ्वी से टकराया। धूल के बादल ने सूरज को ढक लिया। तापमान गिर गया। पृथ्वी पर रहने वाला 25 किलो से ज्यादा वजन का हर जीव ख़त्म होगया। Dinosours का काल ख़त्म हो गया। Dinosours का अंत एक नई प्रजाती के लिए एक सुनहरा अवसर लेकर आया। ये प्रजाति थी Mammals की। Mammals यानि स्तनधारी जीव। इन्होंने खुद को इस महा विनाश से बचा लिया था। अत्यंत गर्मी से  बचने के लिए ये जमीन के अंदर रहने लगे  थे। और जीवित रहने के लिए इन्होंने सबकुछ खाना शुरू कर दिया। इतने बड़े महाप्रलय के गुजरने के बाद धरती फिर से सामान्य होने लगी थी। सतह पर फिर से नए पेड़-पौधे उगने लगे थे और धरती पर जो 5 % जीव बच गए थे उनमे Adaptive Radiation की प्रक्रिया से बहुत सारी नई प्रजातियां जन्म लेने लगी। ( Eocene Epoch ) में 5.5 करोड़ साल पहले बन्दर जैसी प्रजातियां आई। इनकी आँखे सर में आगे की तरफ थी। इसी काल में इन जीवों के सर अंदर एक विशेष बदलाव हुआ। इनके Spinal Cord को मस्तिस्क से जोड़ने वाला छेद जिसे Foramen Magnum कहते हैं। वह Scull के पिछले हिस्से Center की …
Recent posts

Speech Recognition System क्या है ? इसकी शुरुआत कब हुई ?

Speech Recognition क्या है ? इसकी शुरुआत कब हुई ?



Speech Recognition or Voice Recognition इन दोनों का मतलब लगभग एक ही है। आज की डेट में सायद ही कोई ऐसा आदमी होगा जिसे स्पिच
रेकॉग्नीशन के बारे में पता न हो। आपका मोबाइल फ़ोन हो या लैपटॉप या आपका पर्सनल कंप्यूटर आप बिना कुछ टाइप किये सिर्फ बोलकर कमांड दे सकते हैं। जैसे कि अगर आपको अपने मोबाइल से किसी को
कॉल करना हो तो आप सिर्फ उस व्याक्ति का नाम लेकर उसको कॉल कर सकते हैं। अगर आप google पर कुछ सर्च करना चाहते हैं तो बिना keypad इस्तेमाल किये सिर्फ बोलकर आसानी से उसे सर्च कर सकते हैं। अगर आपको youtube पर  कोई वीडियो सर्च करनी हो तो सिर्फ बोलकर आप अपना वीडियो देख सकते हैं। आज कल बाजार में भी ऐसे कई हार्डवेयर डिवाइस आपको मिल जाएंगे जो सिर्फ आपकी आवाज सुनकर अपना काम करते हैं। जैसे कि अमेज़न की Alexa , गूगल Assistant , एप्पल की Siri, माइक्रोसॉफ्ट की Cortana . लेकिन क्या आप जानते है इसकी
शुरुआत कब और कैसे हुई ? ये काम कैसे करता है ?
आइए जानने कि कोशिश करते हैं।

speech recognition क्या है ? स्पीच रिकग्निशन एक कंप्यूटर सॉफ्टवेयर प्रोग्राम या हार्डव…

रिटायर्ड ऑफिसर्स ने खोला AREA 51 का राज। Mystery Revealed of Area 51

रिटायर्ड ऑफिसर्स  ने खोला AREA 51 का राज।



आपने एरिया 51 का नाम तो जरूर सुना होगा। यह  दुनिया की एकलौती ऐसी जगह है जिसकी सच्चाई आजतक कोई  नहीं जान पाया। एरिया 51 को लेकर लोगो के मन में बहुत तरह की बातें आती रहती है। यह एक ऐसा रहस्य है जिसको लेकर सोशल मीडिया पर हमेशा बहस होती रहती है। कई लोगों का मानना है कि एरिया 51 में UFO और एलियन्स का अस्तित्व है। दुनिया के बड़े बड़े वैज्ञानिक अथवा तर्कशास्त्री एरिया 51 से जुड़े UFO (UNIDENTIFIED FLYING OBJECT ) और अमेरिका के सीक्रेट एजेंट्स की बात करते रहते हैं तो कई वैज्ञानिक इससे इनकार भी करते हैं। लेकिन कुछ रिटायर्ड ऑफिसर्स के इंटरव्यूज देखने के बाद एरिया 51और एलियंस के अस्तित्व पर यकीन होने लगता है।  AREA 51 क्या है ?एरिया 51, सामान्य तौर पे हम इसे इसी नाम से बुलाते है लेकिन ये इसका ऑफिसियल नाम नहीं है। इसका ऑफिसियल नाम है ( NEVADA TEST AND TRAINING RANGE ) . ये USA के नेवाडा में स्थित है। वर्ल्ड वॉर 2 में एरिया 1 , एरिया 2 , एरिया 3 ऐसे कई एरियाज में नुक्लीअर बम की टेस्टिंग कि जाती थी। एरिया 51भी इन्ही में से एक टेस्टिंग साइट ही थी। 2 जुलाई 1947 …

कैसे होगी tour of duty के लिए सेलेक्शन ? - Full Details

कैसे होगी tour of duty के लिए  सेलेक्शन ?  हेलो दोस्तों बहूत  ही बड़ी अपडेट निकल कर आरही है इंडियन आर्मी के तरफ से, हर एक उस  युवा के लिए जिसने अपनी लाइफ में कभी न कभी इंडियन आर्मी का सपना देखा था | अपने देश  की सेवा करने अथवा खुद को इंडियन आर्मी की ड्रेस में देखने के लिए आज उसका सपना सच होने जा रहा है |क्या है Tour of Duty का ये कॉन्सेप्ट ? कैसे होगी इसकी चयन प्रक्रिया ?
सैलरी क्या होगी ?  आइये  step by step इन सारे सवालो का जवाब जानते है | 
कृपया ध्यान दे :- ये जानकारी डिजिटल मीडिया बेस्ड है इसकी आधिकारिक पुस्टि अभी तक नहीं हुई है |  क्या है Tour of Duty का मतलब  ?Tour Of Duty हमारी इंडियन आर्मी की एक पहल है जिसमे देश के आम नागरिक भी हिस्सा ले सकते  और 3 सालों तक अपने देश की सेवा कर सकते हैं | सबसे पहले इसे 100 ऑफिसर्स और 1000 जवान के साथ ट्रायल बेसिस पे शुरू किया जाएगा इसकी जरुरत क्यों पड़ी ? दोस्तों पिछले कुछ सालों में पेंशन्स पे जो खर्च आरहे है ( defence pension bill ) वो हमारा काफी ज्यादा  बढ़ गया है | पिछले साल का अकड़ा अगर देखे तो लगभग 146 % का खर्च केवल हमारे पेंशन्स के ऊपर बढ़ी हैं |…

ALBERT EINSTEIN का दिमाग क्यों था खास ?

ALBERT EINSTEIN का दिमाग क्यों था  खास ?  जिस इंसान ने आजतक कोई गलती नहीं की है तो यह मान लेना चाहिए कि  उस इंसान
ने अपनी लाइफ में कुछ नया करने कि कोशिस ही नहीं की होगी | ऐसा ही कुछ मानते थे
दुनिया के सबसे महान वैज्ञानिक अल्बर्ट आइंस्टीन | इनका जन्म 14 मार्च 1889 को जर्मनी
के उल्म शहर में एक  यहूदी परिवार में हुआ था  | उनके पैदा होने के बाद डॉक्टर्स ने नोटिस किया कि उनका सर नार्मल बच्चो के मुक़ाबले काफी बड़ा था, और वो एक एब्नार्मल बच्चे के
रूप में जन्मे थे | इसके बावजूद भी उनका दिमाग इतना तेज़ था की आजतक कोई भी उनका मुक़ाबला नहीं कर पाया | आज 60 साल हो गए आइंस्टीन हमे छोड़कर चले गए , लेकिन आज भी साइंस उनकी थेसुस के बिना कमजोर है | तो यही वजह है कि हर कोई उनके दिमाग के बारे में जानना चाहता है,कि आखिर उनके दिमाग में ऐसा क्या था जो की उन्हें इस मुकाम तक ले आया
आज उन्हें दुनिया भर में महान वैज्ञानिक के रूप में जाना जाता है |

क्या उनके ब्रेन में कोई सुपरनैचुरल पावर थी ? आइये जानने की कोशिस करते है :-
दरअसल जब एल्बर्ट आइंस्टीन का जन्म हुआ था तब उनका सर किस भी नार्मल  बचे से ज्यादा
बड़ा था | नार्म…